देश में आजादी का बिगुल वकील ने ही बजाया था इसलिए वकील ही आजाद भारत का पहला पी एम भी हुआ। वकील पर हाथ डालने की वजह से ही अंग्रेजों को भारत छोड़ना पड़ा था। क्योंकि वकील के बारे में कहा गया है वकील दोषी को निर्दोष और बेगुनाह को गुनाहगार भी सिद्ध कर सकता है।

महात्मा गांधी के जीवन का आखिरी साल हमारे इतिहास की कुछ सबसे त्रासद घटनाओं का साक्षी रहा है। यह वह वक़्त था जब भारतीय स्वतंत्रता-संग्राम का महानायक अचानक देश का सबसे अकेला, सबसे उदास, सबसे उपेक्षित व्यक्ति नज़र आने लगता है।

देश के कई राज्यों में प्लास्टिक या पोलीथिन कैरी बैग पर प्रतिबंध तो है, लेकिन जनजागृति के अभाव में जमीन पर इसका असर कम ही देखा जा रहा है। पृथ्वी के पर्यावरण को बिगाड़ने में इनकी बहुत बड़ी भूमिका है। 

 

 


Powered by Aakar Associates Pvt Ltd