एक सांसद को हर महीने 50 हजार रुपये सैलरी मिलने के अलावा कई अन्य तरह के भत्ते भी मिलते हैं. इन भत्तों में 45000 रुपये संसदीय क्षेत्र भत्ता, 45000 रुपये कार्यालय भत्ता मिलता है.

यूपी के बस्ती लोकसभा सीट से बीजेपी सांसद हरीश द्विवेदी का विवादित बयान सामने आया है. जहां उन्होंने बस्ती के जिला पंचायत सभागार में आयोजित युवा संवाद में एक बार फिर नेताओं को वर्तमान व्यवस्था में कमी के चलते चोरी करने की बात कही. उन्होंने मंत्रियों, राजनेताओं के खर्च के बारे में कहा कि वेतन से कोई सांसद, मंत्री अपना चुनाव क्षेत्र नहीं चला सकता. उसके लिए धन प्राप्ति के लिए अन्य उपाय करने पड़ते हैं. इस मौके पर जिलाधिकारी राजशेखर भी मौजूद थे.

पार्लियामेंट्री सिस्टम पर उंगली उठाते हुए बीजेपी सांसद द्विवेदी ने कहा कि एक सांसद को बारह कर्मचारियों की आवश्यकता है, लेकिन वेतन वरिष्ठ प्राइमरी के अध्यापक से भी कम है तो चोरी तो करनी ही पड़ेगी. इतना ही नहीं उन्होंने पार्टी के बड़े नेताओं से इस विषय पर चर्चा भी करने की बात कही, साथ ही केजरीवाल सरकार द्वारा विधानसभा में भत्ते बढ़ाने की प्रशंसा भी की.

बता दें कि एक सांसद को हर महीने 50 हजार रुपये सैलरी मिलने के अलावा कई अन्य तरह के भत्ते भी मिलते हैं. इन भत्तों में 45000 रुपये संसदीय क्षेत्र भत्ता, 45000 रुपये कार्यालय भत्ता मिलता है. यहीं नहीं संसद सत्र के दौरान सदन का अलग भत्ता मिलता है. कुल खर्चे की बात करें तो एक सांसद पर हर महीने लगभग 2.70 लाख रुपये खर्च होते हैं.