कुंभ मेले में ठण्ड से एक सफाईकर्मी की मौत के बाद एक मजदूर को पीट कर हाथ तोड़ देने की घटना सामने आई है.

बुधवार को आज एक सफाईकर्मी मातादीन (उम्र -55 वर्ष ,ग्राम -चुरयारी, थाना -गोहरिया, जिला -छतरपुर, मध्यप्रदेश) से एक साधु की बाल्टी छू गयी. इससे नाराज साधु ने मातादीन को इतना मारा कि मातादीन का दाहिना हाथ टूट गया. मातादीन का इलाज भी नहीं कराया गया है. उनके हाथ में खपच्ची बांध दी गयी है. उसको पीटने वाले साधू पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी है न ही कोई रिपोर्ट दर्ज की गयी है.

दो दिन पहले एक सफाईकर्मी ननकाई (उम्र -21 वर्ष,पुत्र लोला,ग्राम-बरुआ, पोस्ट -गाजीपुर, जिला -फतेहपुर) की ठण्ड लगने से मृत्यु हो गई थी। प्रशासन ने सफाईकर्मियों को न तो दस्ताने दिए हैं न ही ठण्ड से बचने का उपाय ही किया गया है। मेला क्षेत्र में बने तंबुओं में मजदूर किसी तरह रह रहे हैं।

सफाई कर्मी की मौत की खबर मिलते ही सफाई कर्मचारी एकता मंच के अध्यक्ष रामसिया ने ननकाई के परिजनों से मुलाकात करके 10 लाख रूपये मुआवजे की मांग की।

आइसा नेता नेता अंतस सर्वानंद, शिवानी और सफाई कर्मचारी एकता मंच के मंत्री संतोष ने साधु की पिटाई से घायल मातादीन से मुलाकात कर पूरी घटना की जानकारी ली. आइसा नेता और सफाई कर्मचारी एकता मंच के नेता इस मामले में कार्रवाई हेतु प्रशासनिक अधिकारीयों से मिलेंगे.

सफाई कर्मचारी एकता मंच के मंत्री संतोष ने कहा कि कुंभ के लिए सफाईकर्मियों और मजदूरों को दिन-रात मेहनत करनी पड़ रही है। कड़ाके की ठण्ड में भी मजदूर काम कर रहे हैं। अन्य जिलों से लाये गये मजदूरों को ठेकेदारों ने मामूली टेंट में रखवा दिया है जहाँ उन्हें जरूरी सुविधाएँ उपलब्ध नहीं है. ठण्ड से बचने का भी कोई इंतजाम नहीं है. यही नहीं उनके साथ आये दिन दुर्व्यवहार व मारपीट की घटनाएँ भी हो रही हैं.