वैसे चौकीदारी तो हमेशा से सम्मानित पेशा रहा है और जब चौकीदार खुद चोर से अपनी निगरानी में चोरी करवाता है तो इस पेशे का सम्मान इतना अधिक बढ़ जाता है कि ऐसे आदमी को अगर रत्न-पुरस्कार मिल जाएं तो भी आश्चर्य नहीं, प्रसन्नता व्यक्त करनी चाहिए।

Go to top

Powered by AAKAR ASSOOCIATES