जम्मू-कश्मीर से साल 2009 में सिविल सेवा परीक्षा टॉप करने वाले आईएएस अधिकारी शाह फ़ैसल ने कश्मीर में हिंसा के कारण हो रही हत्याओं के विरोध में अपने पद से इस्तीफ़ा देने का ऐलान किया है.

अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए ये जानकारी साझा करते हुए उन्होंने लिखा, ''कश्मीर में बेरोक हत्याओं और केंद्र सरकार से किसी भी विश्वसनीय राजनीतिक पहल के अभाव में, मैंनेआईएएस पद से इस्तीफ़ा देने का फैसला किया है. कश्मीरियों की ज़िंदगी मायने रखती है.''

इससे पहले हिज़्बुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी की सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ के बाद भी शाह फ़ैसल ने फ़ेसबुक पर एक विवादस्पद टिप्पणी की थी.

तब शाह फ़ैसल ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में लिखा था कि वो कश्मीर के हालात पर वे दुखी हैं. तब शाह फ़ैसल श्रीनगर में शिक्षा विभाग के प्रमुख थे और कश्मीर हिंसा के दौरान मीडिया के रवैये से नाराज़ थे.

उन्होंने बुरहान वानी के साथ अपनी तस्वीर दिखाए जाने पर नाराज़गी जाहिर की थी. उन्होंने कहा था कि देश में मीडिया का एक तबका फिर से कश्मीर में हिंसा की ग़लत तस्वीर दिखा रहा है, लोगों को बांट रहा है और लोगों में नफ़रत फैला रहा है.

उन्होंने फ़ेसबुक पोस्ट लिखा था, "कश्मीर हाल में हुई मौतों पर रो रहा है और न्यूज़रूम से फैलाए जा रहे प्रोपेगैंडा के कारण कश्मीर में नफ़रत बढ़ी है और ग़ुस्सा बढ़ा है."