केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी आजकल अपने बयानों को लेकर चर्चा में हैं। इसी कड़ी में आज फिर गडकरी ने कहा कि 'जो अपना घर नही संभाल सकते वो देश क्या संभालेंगे।'

नागपुर में बोलते हुए गडकरी ने कहा कि पार्टी (भाजपा) कार्यकर्ताओं को पहले अपनी घरेलू जिम्मेदारियों को पूरा करना चाहिए क्योंकि जो ऐसा नहीं कर सकता, वह ‘देश नहीं संभाल सकता।’ गडकरी, भाजपा की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पूर्व कार्यकर्ताओं के एक सम्मेलन को शनिवार को यहां संबोधित कर रहे थे।

गडकरी ने कहा, 'मैं कई लोगों से मिला हूं जो कहते हैं कि हम बीजेपी और देश के लिए अपना जीवन समर्पित करना चाहते हैं. ऐसे लोगों में से मैंने एक से सवाल किया, आप क्या करते हैं और आपके परिवार में कौन कौन है? उसने कहा कि मैंने अपनी दुकान बंद कर दी है क्योंकि वे ठीक से नहीं चल रही थी. घर में पत्नी और बच्चे हैं।' उन्होंने कहा, ‘‘मैं (उनसे) कहता हूं, पहले अपने घर की देखभाल करें, क्योंकि जो अपना घर नहीं संभाल सकता, वह देश नहीं संभाल सकता। ऐसे में पहले अपना घर संभालें और अपने बच्चे, संपत्ति देखने के बाद पार्टी और देश के लिए काम करें।’’

इससे पहले गडकरी के बयान 'सपने वही दिखाएं जो पूरे कर सकें, नहीं तो जनता पिटाई करती है', पर देश की राजनीति में उथल-पुथल मचा दी थी। गडकरी के इस बयान पर विपक्ष मोदी पर खूब निशाना साध रहा था। इसपर विपक्ष ने कहा था कि गडकरी की नजर प्रधानमंत्री की कुर्सी पर है। गडकरी का बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीधा हमला है।