"मार्च में मेरे शासनकाल के दो वर्ष पूरे होंगे। मेरे अब तक के शासन में, कोई दंगा नहीं हुआ है।" -यह ट्वीट उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 3 जनवरी, 2019 को किया।

उन्होंने दावा किया कि उनके कार्यकाल में कोई दंगा नहीं हुआ।

एक ओर आदित्यनाथ दावा करते हैं कि उनके कार्यकाल में कोई दंगा नहीं हुआ, वहीं दूसरी ओर, गृह मंत्रालय की रिपोर्ट कुछ और कहती है। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज गंगाराम अहीर द्वारा 11 दिसंबर, 2018 को लोकसभा में दिए गए एक जवाब के अनुसार, 2017 में देशभर में 822 साम्प्रदायिक दंगे हुए, जिनमें से अकेले उत्तर प्रदेश में 195 हुए थे। साम्प्रदायिक दंगों की कुल 195 घटनाओं में 44 लोग मारे गए थे और 542 लोग घायल हुए थे।

आदित्यनाथ के कार्यकाल की तीन बड़ी घटनाएं

गृह मंत्रालय की रिपोर्ट के अलावा, उत्तर प्रदेश में हिंसा की कम से कम तीन ऐसी बड़ी घटनाएं हुईं जिनकी मुख्यधारा के मीडिया संगठनों ने रिपोर्ट की और जिन्हें 'दंगा' बताया गया।

सहारनपुर

मई 2017 में, शब्बीरपुर गांव में ठाकुर और दलित समुदायों के बीच जातीय संघर्ष हुआ। 5 मई को हिंदुस्तान टाइम्स द्वारा प्रकाशित एक लेख में बताया गया, "बाद में, 5 मई को, राजपूत राजा महाराणा प्रताप की जयंती मनाने के लिए निकाले गए ठाकुरों के जुलूस पर, एक दलित समूह ने आपत्ति जताई, जिससे भड़की हिंसा में एक व्यक्ति मारा गया और 15 से अधिक घायल हुए।" 

कासगंज

26 जनवरी, 2018 को कासगंज शहर में सांप्रदायिक झड़प होने के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया। इस झड़प में, कथित तौर पर कम से कम एक व्यक्ति की मौत हो गई और तीन घायल हो गए। एक प्रत्यक्षदर्शी द्वारा द हिंदू को दिए गए बयान के अनुसार, युवाओं के एक समूह ने कासगंज के कोतवाली क्षेत्र में गणतंत्र दिवस रैली निकाली, जिस दौरान दो समुदायों के बीच झड़प हो गई, और गोलीबारी और पथराव हुआ। बाइक सवारों के समूह ने उस इलाके में रहने वाले समुदाय को निशाना बनाते हुए नारे लगाए, जिसने उकसावे का काम किया और गोलीबारी हुई।

बुलंदशहर

पिछले साल दिसंबर की शुरुआत में, बुलंदशहर में कथित गौकशी को लेकर व्यापक हिंसा और विरोध हुआ। भीड़ की हिंसा में दो लोग मारे गए, जिनमें सुबोध कुमार नाम का एक पुलिस वाला भी था। उसकी गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। 27 दिसंबर को इंडिया टुडे ने बताया, “दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं सहित लगभग 400 लोगों की भीड़ ने, चिंगरावथी गांव में पास के जंगल में गाय के शव फेंके हुए पाए जाने के बाद हिंसा मचाई। उन्होंने दर्जनों वाहनों में आग लगा दी, पथराव किया और पुलिस पर गोलियां भी चलाईं, जिन्होंने जवाबी फायरिंग की।"