बांग्लादेश का पुराना वीडियो राजस्थान चुनाव के बाद मुसलमानों द्वारा हिंदुओं पर हमला बता कर झूठ प्रसारित किया जा रहा है।

“राजस्थान में कांग्रेस सरकार बनते ही पाकिस्तान से लगे जैसलमेर के दार्ती गांव में शांतिदूत मुस्लिमो द्वारा मारवाडी हिन्दूओ के घर जलाये गए और दो हिंदूओ को मौत के घाट उतार दिया।” यह संदेश फेसबुक पर एक वीडियो के साथ प्रसारित हो रहा है, जिसमें कुछ महिलाओं द्वारा हिंसा में अपने प्रियजनों के खोने के बारे में बताया गया है। 

 

https://www.facebook.com/100027981451226/videos/203769387232442

 

 

 

विडिओ 20 दिसंबर को कट्टर हिन्दू छोरा जाटव नामक उपयोगकर्ता द्वारा पोस्ट किया गया है, जिसे 20,000 से ज्यादा बार देखा गया है, और 1500 बार शेयर किया गया है। दूसरे सोशल मीडिया यूजर ने भी इसे पोस्ट किया है, और फेसबुक पेज भगवा राज, पेज लाइक करे के पोस्ट को 600 से भी ज़्यादा बार शेयर किया जा चूका है।

ऑल्ट न्यूज़ ने इस भड़काऊ दावे की जाँच की और पाया कि वीडियो न केवल 2013 की है, बल्कि यह भारत की भी नहीं है। यह वीडियो यूट्यूब पर मार्च 2013 में ‘मुसलमानों ने बांग्लादेश के नोयाखली में 76 हिंदू परिवारों और 5 मंदिरों पर हमला किया’– (अनुवादित) शीर्षक अपलोड किया गया था।   

 

 

 

 1971 में स्वतंत्रता संग्राम के दौरान किए गए युद्ध अपराधों पर एक विशेष न्यायाधिकरण द्वारा एक इस्लामिक नेता को मौत की सजा सुनाए जाने के बाद मार्च 2013 में बांग्लादेश के नोआखली में सांप्रदायिक हिंसा भड़क गई थी। बीबीसी की 9 मार्च, 2013 की एक रिपोर्ट के अनुसार, “फरवरी के अंत में विशेष ट्रिब्यूनल द्वारा एक वरिष्ठ इस्लामिक नेता को मौत की सजा सुनाए जाने के घंटों बाद यह हमला शुरू हुआ। जमात-ए-इस्लामी पार्टी के उपाध्यक्ष डेलवर हुसैन सईदी को 1971 में पाकिस्तान से आज़ादी की जंग के दौरान किए गए अपराधों के लिए मौत की सजा दी गई थी।”

रिपोर्ट में उल्लेख किया गया कि फैसले की घोषणा के बाद, पार्टी के समर्थकों ने हिंदू और बौद्ध समुदायों को निशाना बनाते हुए उग्र प्रदर्शन किया। सुरक्षाकर्मियों के साथ हुए झड़प में 60 लोग मारे गए थे।

विधानसभा चुनाव के बाद राजस्थान में हाल में हुई किसी सांप्रदायिक हिंसा के रूप में बांग्लादेश की एक पुरानी घटना को भड़काऊ तरीके से साझा किया गया है। मतदान समाप्त होने के बाद भी राजनीतिक प्रचार के लिए एक हथियार के रूप में विघटन जारी है, और ऐसे अधिकांश मामलों में, कांग्रेस पार्टी को निशाना बनाया गया है।