दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने शुक्रवार को बजट सत्र के पहले दिन दिल्ली विधानसभा को संबोधित करते हुए सरकार की उपलब्धियों पर जोर दिया। बैजल ने अपने 20 मिनट के भाषण में से आधा समय शिक्षा के क्षेत्र में सरकार के कामकाज पर दिया।

बैजल ने कहा कि 2017-18 में दिल्ली का सकल राज्य घरेलू उत्पादन (जीएसडीपी) 11.22 प्रतिशत बढ़ा है। बैजल ने कहा, 2017-18 में दिल्ली का सकल राज्य घरेलू उत्पादन (जीएसडीपी) 6,86,017 करोड़ रुपये है जो 2016-17 में 6,16,826 करोड़ रुपये था। उन्होंने कहा कि 2017-18 में दिल्ली की प्रति व्यक्ति आय बढ़कर 3,29,093 रुपये होने के आसार हैं। 2016-17 में यह 3,00,793 रुपये थी।

बैजल ने केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार के सार्वजनिक सेवाओं के घर-घर पहुंचाने के निर्णय की सराहना करते हुए कहा कि यह सुशासन का प्रचार करने के लिए किया गया था।

शिक्षा के क्षेत्र में किए गए कार्यो पर बैजल ने कहा कि मौजूदा विद्यालयों में 6,400 अतिरिक्त कक्षाओं का निर्माण किया गया और कई सारे कक्षाओं में सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए। बैजल ने कहा, कक्षाओं समेत सभी विद्यालयों में सीसीटीवी सर्विलांस सिस्टम को बेहतर करना प्रस्तावित है। इसके जरिए माता-पिता घर में बैठे स्कूल में पढ़ रहे बच्चों की निगरानी कर सकेंगे। उपराज्यपाल ने कहा कि 9वीं कक्षा में छात्रों के फेल होने की प्रवृत्ति को समाप्त करने के लिए सरकार द्वारा 'चुनौती 2018' नामक नई पहल शुरू की गई। इससे छठी और आठवीं कक्षा के छात्रों में सीखने की क्षमता में होने वाली कमी को दूर किया गया।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में किए गए कार्यो का उल्लेख करते हुए बैजल ने कहा, नागरिकों को बेहतर स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं प्रदान करना दिल्ली सरकार का मुख्य उद्देश्य है। बैजल ने कहा, स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में 36 मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल हैं। इनमें छह सुपर स्पेशलिटी अस्पताल हैं जिनमें 11,000 बिस्तर (बेड) की सुविधा उपलब्ध है।

बैजल ने साथ ही सामाजिक कल्याण, सड़क परिवहन, आवास और पानी और बिजली के क्षेत्र में दिल्ली सरकार द्वारा किए गए कार्यो का उल्लेख किया।

Loading...
Go to top