पंजाब नेशनल बैंक में ऐसे हुई बैंकिंग सेक्टर की सबसे बड़ी धोखाधड़ी

पंजाब नेशनल बैंक में ऐसे हुई बैंकिंग सेक्टर की सबसे बड़ी धोखाधड़ी

पंजाब नेशनल बैंक में देश की बैंकिंग इंडस्ट्री की सबसे बड़ी धोखाधड़ी पकड़ी गई है। यह फ्रॉड 177.17 करोड़...

कम होती नौकरियों पर सवाल पूछा, CEA अरविंद सुब्रमण्‍यम बोले- क्‍या तुम JNU से पढ़कर आए हो?

कम होती नौकरियों पर सवाल पूछा, CEA अरविंद सुब्रमण्‍यम बोले- क्‍या तुम JNU से पढ़कर आए हो?

इकोनोमिक सर्वे पेश होने के बाद मुख्‍य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्‍यम ने अन्‍य आर्थिक विशेषज्ञों...

अब दुश्मनों की खैर नहीं, नौसेना में शामिल हुई INS करंज

अब दुश्मनों की खैर नहीं, नौसेना में शामिल हुई INS करंज

मुंबई। भारतीय नौसेना ने स्कॉर्पीन श्रेणी की तीसरी पनडुब्बी ‘करंज’ का आज जलावतरण किया। नौसेना...

यशवंत सिन्‍हा ने बनाया राष्‍ट्रीय मंच, कहा- किसानों के मुद्दों को लेकर करेंगे आंदोलन

यशवंत सिन्‍हा ने बनाया राष्‍ट्रीय मंच, कहा- किसानों के मुद्दों को लेकर करेंगे आंदोलन

बीजेपी के बागी नेता यशवंत सिन्हा ने मंगलवार को राष्‍ट्रीय मंच को घोषणा की. उन्‍होंने कहा कि हम...

कंत जी महाराज की नयी पुस्तक का विमोचन

कंत जी महाराज की नयी पुस्तक का विमोचन

दिनांक 20 जनवरी को लोधी रोड दिल्ली के श्री सत्य साईं ऑडिटोरियम में श्री जी आर कंत की नवीनतम पुस्तक...

  • पंजाब नेशनल बैंक में ऐसे हुई बैंकिंग सेक्टर की सबसे बड़ी धोखाधड़ी
  • कम होती नौकरियों पर सवाल पूछा, CEA अरविंद सुब्रमण्‍यम बोले- क्‍या तुम JNU से पढ़कर आए हो?
  • अब दुश्मनों की खैर नहीं, नौसेना में शामिल हुई INS करंज
  • यशवंत सिन्‍हा ने बनाया राष्‍ट्रीय मंच, कहा- किसानों के मुद्दों को लेकर करेंगे आंदोलन
  • कंत जी महाराज की नयी पुस्तक का विमोचन

दिनांक 20 जनवरी को लोधी रोड दिल्ली के श्री सत्य साईं ऑडिटोरियम में श्री जी आर कंत की नवीनतम पुस्तक "कि ताकि तुम" (काव्य संग्रह) का विमोचन हुआ।

कार्यक्रम के मुख्यअतिथि श्री राज शेखर व्यास, अतिरिक्त महानिदेशक आकाशवाणी, द्वारा पुस्तक का लोकार्पण किया गया।

कविता संग्रह की कविताये अत्यंत सरल, सहज, पारदर्शी एवं सीधे सम्प्रेषित होने वाली है। बोलचाल में शब्दों में, संवाद शेल्ली में रची गई ये कविताये पाठक अथवा श्रोता से बड़ी आत्मीयता से बातचीत करती है। यह कविताये आसमान से ऊँची, समंदर से गहरी जैसे अंतरात्मा की करुण पुकार करती सी लगती है। कवि की रचनाओं में एक ओर अध्यात्म है तो दूसरी ओर दर्शन है, एक ओर आस्था है तो दूसरी ओर श्रृंगार भी है। आज के बाज़ारवाद के युग मे पुस्तक अपना अनोखा स्थान बनाने में कामयाब होती दिख रही है.

इस मौके पर अतिथि विशेष लेखक श्री दिविक रमेश, कवि श्री लक्ष्मी शंकर वाजपेयी और डॉक्टर अनिल चतुर्वेदी ने शिरकत की और अपने विचार व्यक्त किये।

 

 

Rajmangal Times

Editorial Office:
258, Metro Apartments,
Near Balaswa Crossing
Jahangirpuri Metro Station,
Delhi-110033

Phone: 9810234094, 01127633258
email: editor@rajmangal.com

Go to top